श्रद्धेय अटल बिहारी वाजपेयी जी

शख्स वो आम नहीं था

शख्स वो आम नहीं था, झूट कपट का काम नहीं था,

गरजे जैसे दहाड़ शेर की, डर शब्द का नाम नहीं था,
देकर आंसू चला गया, कोई उसके समान नहीं था,
शख्स वो आम नहीं था।
Read More »