त्रिकालदर्शी शिव

shivratriशिव रात्रि के इस पर्व पर हम शिव के भक्त तो बन जाते है,

पर जितना त्याग किया शिव ने,

उसका थोड़ा ऋण भी चूकाते है|

विष का प्याला पी गए वो,

जन जन को माहुर से बचाने को,

पर हर ज़ीवा हलाहल उगल रही,

खुद की शैली दिखाने को|

Read More »