मन

आज मन इतना क्यों अशांत हो रहा,

क्या है वो विचार जो इसमें बह रहा ,

शुन्य हल वाली समीकरण है शायद,

जिसके संयोग में अनगिनत संचार हो रहा । 

Read More »