प्रकृति का रखो मान

कैसी है ये विपदा, जिसकी है दुगुनी गति,

हर तरफ पानी से हो रही क्षति|

कारण किसी ने जाना नहीं, जिम्मेदार खुद को माना नहीं,

ना समझी हमसे बड़ी हुई, जो नाराज़ हमसे प्रकृति हुई|

 

Read More »