लड़की ———- बहु या बेटी ?

आज ज़ेहन में फिर से एक सवाल उठा है,

प्रश्न बड़ा ही कॉमन है, पर  सोचने का नजरिया जुदा है|

“एक घर में दो लड़किया, जो साथ साथ तो रहती थी,

पहली घर के मालिक की बेटी, दूसरी बहु रुपी समुद्र में बहती थी |

पहली तो राजकुमारी थी, दूसरी की पहचान समाज और निभाए जाने वाली दुनियादारी थी |

पहली का बचपन वृद्ध हो गया पर बचपना ख़त्म न हुआ, दूसरी ने तो स्कूल में भी शायद करी समझदारी की पढाई थी, दूसरी को तो उसकी माँ ने गोद में ही संस्कारो की घुट्टी पिलाई थी|”

मानव जन भी गज़ब हो गया, सबसे पैसा चाहता है,

दोनों लड़किया खूब कमाए, पर आँख मूँद बैठ जाता है|

“पहली का पैसा मेहनत की कमाई, दूसरी तो जैसे घर बैठे लाई है,

पहली का जैसे खून पसीना, दूसरी के कानो में तानो की लड़ सी लगाई है,

पहली को आराम है करना, क्युकी वो थक कर आयी है,

दूसरी ने तो जैसे जॉब पर भी, मखमल पर बैठ खाई दूध मलाई है,

पहली का आंसू भी समुद्र है, क्युकी वो घर की बिटिया रानी है, दूसरी ने तो जैसे आराम की भी, नानी से सुनी सिर्फ कहानी है|”

***दरखास्त है जन जन से मेरी, पहलीदूसरी का अंतर छोड़ दो,

आज के युग में सभी बराबर, अपने पराये का घड़ा फोड़ दो |

भूल के ससुरालो की रस्मो को, परदे को पीछे छोड़ दो,

बहु को भी बेटी मानो तुम, इंसानियत से नाता जोड़ दो|***

डॉ. सोनल शर्मा

6 thoughts on “लड़की ———- बहु या बेटी ?

  1. I am glad for writing to make you know what a nice encounter my wife’s girl had studying your web site. She mastered several pieces, which include what it’s like to possess an awesome helping nature to let other individuals with ease know precisely some problematic subject matter. You truly exceeded people’s expectations. Thank you for producing these practical, trusted, informative and in addition fun tips about this topic to Kate.

  2. Thanks for the tips on credit repair on all of this blog. What I would advice people is to give up the mentality that they can buy now and pay later. As a society we tend to do this for many things. This includes vacations, furniture, and items we want. However, you need to separate your wants from all the needs. While you are working to improve your credit score you have to make some sacrifices. For example you can shop online to save money or you can go to second hand stores instead of expensive department stores for clothing.

  3. Howdy! I could have sworn I’ve been to this website before but after reading
    through some of the post I realized it’s new
    to me. Anyways, I’m definitely happy I found it and I’ll be book-marking and checking back frequently!

  4. I’ve been browsing online more than three hours nowadays,
    yet I never found any attention-grabbing article like
    yours. It’s lovely price sufficient for me. In my view, if all web
    owners and bloggers made just right content as you probably
    did, the net will be a lot more helpful than ever before.

Leave a Reply

Your email address will not be published.